माल्या के प्रत्यर्पण का समय निकट, 31 जुलाई को लंदन कोर्ट करेगा फैसला

नई दिल्ली: कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण का समय निकट आ गया हैं। 31 जुलाई को लंदन कोर्ट विजय माल्या का फैसला कर सकता हैं। 31 जुलाई को कोर्ट में विजय माल्या के भारत प्रत्यर्पण करने के मामले में अंतिम सुनवाई होगी। यह होने के बाद उसी दिन कोर्ट अपना फैसला सुना सकती है। लंदन द्वारा भारत सरकार को मिली सूचना में साफ कहा गया है कि 31 जुलाई को सीबीआई और ईडी अधिकारी कोर्ट में मौजूद रहें। लंदन की कोर्ट में माल्या के भारत प्रत्यार्पण को लेकर पिछले साल से सुनवाई चल रही है। ये सुनवाई सीबीआई और ईडी दोनों की याचिका पर हो रही है। कोर्ट में माल्या ने सीबीआई के गवाहों को लेकर सवाल खड़े किए थे। लंदन कोर्ट इसके पहले संपत्ति जब्त करने के मामले में माल्या को आघात दे चुकी है।

बैंकों का 9000 करोड़ से ज्यादा का कर्ज लेकर विजय माल्या लंदन भाग गया था। प्रत्यर्पण की शर्तें कड़ी होती हैं, इसीलिए उसे भारत लाने में देर हो रही है। बैंकों और निवेशकों के पैसे लौटाने के लिए प्रवर्तन निदेशालय ने अदालत में माल्या और उसकी कंपनी की 12500 करोड़ की संपत्ति जब्त करने की याचिका दी है। इस वर्ष जून में माल्या ने दावा किया था कि, उसने कर्ज लौटाने की पूरी कोशिश की थी। इस विषय में प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री को भी पत्र लिखा, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। साथ ही माल्या ने कहा कि उसे ‘पोस्टर ब्वाय’ की तरह पेश किया। जिसकी वजह से लोग उसका नाम सुनते ही आक्रोश में आ जाते हैं।