मंत्री के काफिले की गाड़ी ने 5 साल के बच्चे को रोंदा, सीएम ने किया मुआवज़े का एलान

गोंडा: करनैलगंज-परसपुर मार्ग पर बाबागंज गोंनई गोसाई पुरवा के पास राज्य सरकार के एक मंत्री के काफिले की गाड़ी ने पांच साल के बच्चे को कुचल दिया. बच्चे की घटनास्थल पर ही मौत हो गई. यह गाड़ी मंत्री ओमप्रकाश राजभर के काफिले में शामिल थी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस महानिदेशक से मामले की विस्तृत रिपोर्ट मंगवाई है.

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार , मंत्री ओमप्रकाश राजभर का काफिला शनिवार को गोंडा जिले से गुजर रहा था, तभी काफिले में शामिल एक वाहन ने इस बच्चे को कुचल दिया. यह बच्चा अपनी मां और दादी के साथ कर्नलगंज और पारसपुर को जोड़ने वाली सड़क के किनारे खेल रहा था, तभी वह इस वाहन की चपेट में आ गया. प्रत्यक्षदर्शियों और बच्चे के परिवार वालों ने आरोप लगाया कि काफिले में से कोई भी बच्चे की मदद के लिए नहीं रुका.

बच्चे के पिता विश्वनाथ ने दावा किया कि काफिले की एक गाड़ी में मंत्री खुद मौजूद थे और उस कार पर मालाएं लगी हुई थीं. हालांकि मंत्री राजभर ने कहा कि जिस समय यह हादसा हुआ, वह दूसरी कार में उस स्थान से करीब 25 किलोमीटर दूर थे.ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि पुलिस घटनास्थल पर देरी से पहुंची.

नाराज गांव वालों ने बच्चे के शव को सड़क पर रखकर एक घंटे तक जाम लगाए रखा. उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने बलपूर्वक बच्चे का शव सड़क से हटाने की कोशिश की. इसके बाद लोगों ने वहां आगजनी भी की. बच्चे के पिता की शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात शख्स के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

सीएम योगी ने इस मामले में दुख जताते हुए परिजन को 5 लाख रुपए की मदद देने का एलान किया है. साथ ही डीजीपी से इस पूरे मामले में दोषि‍यों के खि‍लाफ तत्काल सख्त कार्रवाई करने के निर्देश देते हुए रिपोर्ट तलब की है.

इस मामले पर करनैलगंज के इंस्पेक्टर सदानंद सिंह ने कहा कि बच्चे की मौत के बाद मंत्री के खि‍लाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है. गोंडा के जिलाधिकारी ने कहा कि पुलिस यह पता लगा रही है कि कार कौन चला रहा था. हमारे ऊपर किसी तरह का कोई दबाव नहीं है. पुलिस उचित तरीके से कार्रवाई करेगी.