आदिवासी चित्रकला का श्रेष्ठ उपासक-प्रसारक खोया- मुख्यमंत्री

मुंबई: वारली आदिवासी चित्रकला को ऊंचाई प्राप्त करानेवाले ख्यातिप्राप्त कलाकार पद्मश्री जीवा सोमा म्हसे के निधन से आदिवासी समूह की विशेषताओं से परिपूर्ण कला-संस्कृति को आंतरराष्ट्रीय स्तरपर पहुँचानेवाला उपासक-प्रसारक हमने खोया है, ऐसे शब्दों में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने श्रद्धांजलि अर्पण की है.

मुख्यमंत्री ने अपने शोकसंदेश में कहा कि, पालघर जिले जैसे पहाड़ी दुर्गम क्षेत्र में वारली चित्रकला सात समंदर पार पहुंचानेवाले श्री. म्हसे के प्रयासों से विशेषतापूर्ण आदिवासी संस्कृति के विभिन्न अंगों का दर्शन हुआ. आज वारली चित्रकला को ख्याति प्राप्त हुई है. इसके माध्यम से आदिवासी समूह का श्रेष्ठ कलाविष्कार समर्थ रूप से व्यक्त हो रहा है. इसके पीछे श्री. म्हसे परिवार का बहुमूल्य योगदान है. श्री. म्हसे के कार्य की दखल लेकर पद्मश्री जैसे नागरी पुरस्कार से उन्हें सम्मानित किया गया है. साथ ही कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों से उनका किया गया सम्मान उनकी कला की महानता दर्शानेवाला साबित हुआ है.