देश में व्यवसाय को आसान बनाना चिंता का विषय : सुनील मित्तल

मुंबई : देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी भारती एयरटेल के मालिक सुनील मित्तल ने देश में कारोबार आसान किए जाने को अब भी मुख्य चुनौती बताते हुए सरकार से इस दिशा में और प्रयास करने का अनुरोध किया। मित्तल ने कहा, ‘‘कारोबार आसान किया जाना अब भी मुख्य चुनौती बना हुआ है। मैं जानता हूं कि सरकार इसपर ध्यान दे रही है। प्रधानमंत्री चाहते हैं कि हमारा रैंक सुधरे।’’

मित्तल एक अखबार द्वारा आयोजित एक अवार्ड कार्यक्रम में सामूहिक परिचर्चा में शनिवार रात को बोल रहे थे। समारोह में वित्त मंत्री अरुण जेटली भी उपस्थित थे और कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। घाना में एक विलय की मंजूरी महज तीन दिन में मिल जाने की बात का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि वह कैसे हैरान हो गए थे। उन्होंने कहा, ‘‘हम तीन दिन नहीं कर सकते, लेकिन 30 दिन या 60 दिन तो कर ही सकते हैं। हमें सच में ऐसी रूपरेखा की जरूरत है।’’ मित्तल ने किसी पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनी का अपनी प्रवर्तक कंपनी में विलय के बारे में कहा कि देश में आवश्यक मंजूरियां मिलने में पांच महीने तक लग जाते हैं।

समाधान सुझाते हुए उन्होंने कहा कि एक मंत्रिस्तरीय समिति होनी चाहिए जो उद्योग जगत के सुझावों पर ध्यान दे और उन्हें अमल में लाए। उन्होंने बैंकों में 2.11 लाख करोड़ रुपये की पूंजी डालने की सरकार की योजना की सराहना की। उन्होंने कहा कि इससे बैंकों को राहत मिलेगी। उन्होंने चालू वित्त वर्ष में निवेश दो गुना करने का हवाला देते हुए संकेत दिया कि अगले तीन साल की अवधि में कंपनी 75 हजार करोड़ रुपये निवेश करेगी। उल्लेखनीय है कि विश्व बैंक द्वारा कारोबार की आसानी के आधार पर तैयार रिपोर्ट में 190 देशों में भारत को 130वें स्थान पर रखा गया है।