अतिक्रमण विरोधी की कार्रवाई से बचाने के लिए दंगे के आरोपियों ने लगाई थी बांद्रा की झुग्गियों में आग : आरोपी गिरफ्तार

मुंबई : बांद्रा स्टेशन से सटी बेहराम पाड़ा झोपड़पट्टी में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के दौरान लगी आग को लेकर नया खुलासा हुआ है। यह आग आजाद मैदान में हुए दंगे के आरोपी शाबीर और उसके पांच साथियों ने अपनी दुकानें बचाने के लिए लगाई थी। पुलिस ने सभी को रविवार को गिरफ्तार किया । उन्हें मंगलवार तक पुलिस हिरासत में भेजा गया है।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, गुरुवार को बांद्रा स्टेशन से सटे बेहराम पाड़ा इलाके में अवैध झोपड़पट्टी और दुकानें हटाने के कार्रवाई की जा रही थी। लेकिन दोपहर चार बजे अचानक आग लग गई। यह आग रेलवे स्टेशन से से टिकट काउंटर तक पहुंची। देखते देखते टिकट काउंटर भी जलकर खाक हुआ स्काई वे भी बंद करना पड़ा। यहां तक कि कुछ देर के लिए ट्रेनों की आवाजाही रोकनी पड़ी। दमकल ने किसी तरह 1.5 घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। इससे बड़ा हादसा टला।

पुलिस जांच में सामने आई सच्चाई
आग कैसे लगी इसकी जांच पुलिस कर रही थी। इसमें चौंकाने वाली सच्चाई सामने आई।स्थानीय लोगों ने शाबीर और उसके साथियों को कार्रवाई के दौरान भागते हुए देखा था। पुलिस ने उसे हिरासत में लेने पर उसने गुनाह कबूला।

शाबीर खान ने अपनी दुकान अतिक्रमण विरोधी की कार्रवाई से बचाने के लिए यह आग लगाई थी। पुलिस के मुताबिक शाबीर आजाद मैदान में हुए दंगे का आरोपी है। उसने अपने साथी दुकानदारों के साथ मिलकर यह आग लगाई।कार्रवाई के दौरान आरोपियों ने कचरा इकट्ठा किया और उसमें आग लगा दी। साथ ही इस आग में गैस सिलेंडर फेंका।जिससे झुग्गियों में आग फैल गई और अतिक्रमण विरोधी को कार्रवाई रोकनी पड़ी थी।