आरक्षण से समानता लाने की कोशिश : कोकजे

मथुरा : विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे ने कहा आरक्षण तब तक ख़त्म नहीं होंगा ,जब तक समाज में पूर्ण रूप से समानता नहीं आती |कोकजे ने समाज में संविधान द्वारा दिए गए आरक्षण के अधिकार पर खुलकर बात की | समाज में जब तक असमानता है तब तक आरक्षण व्यवस्था लागू रहना चाहिए, ऐसा उन्होनें कहा | वे मथुरा में वृन्दावन के संत-महात्माओं से मुलाकात करने के लिए आए थे | .

वृन्दावन के कृष्ण कृपा धाम में संवाददाताओं से मुलाकात में विहिप नेता ने कहा, ‘‘जैसे-जैसे पिछड़े वर्ग के लोगों को मौका मिलेगा, उनके बच्चो की योग्यता और बढ़ने लगेगी और वे आरक्षण को भूल जाएंगे| जब तक वर्गों में भेदभाव किया जाएगा ,तब तक असमानता बनी रहेंगी | जेसे ही समानता आयंगी ,आरक्षण व्यवस्था समाप्त हो जाएगी.’’

कोकजे ने कहा , ‘‘जब तक समाज का एक तबका पिछड़ा रहेगा, तब तक आरक्षण की व्यवस्था लागू रहनी चाहिए | संविधान में इसलिए उस तबके को बराबरी का मौका देने के लिए यह व्यवस्था लागू की गई थी| “आरक्षण का मुख्य कारण समाज में फैली असमानता को समानता में बदलना है| हिन्दू धर्म में इस असमानता को दूर करने के लिए हमेशा से ही प्रयास होते रहे हैं| मठों, मंदिरों और आश्रमों द्वारा गरीबों को दान और उनकी मदद करने की परम्परा रही है| इसी व्यवस्था को आज संवैधानिक रूप से आरक्षण का नाम दिया गया है| इसलिए जरूरत रहने तक यह व्यवस्था लागू रहनी चाहिए| ’’ राम मंदिर के विषय पर उन्होंने कहा की छह माह में अदालत का निर्णय आ जाये जल्दी हे मनिदर का कार्य शुरू होंगा” |