मनसे कार्यकर्ताओं पर हमला: कांग्रेस नेता संजय निरुपम के खिलाफ FIR दर्ज, 7 फेरीवाले गिरफ्तार

मुंबई : मलाड में फेरीवालों ने शनिवार को मनसे कार्यकर्ताओं की जमकर पिटाई की। घायल हुए मनसे के विभाग अध्यक्ष सुशांत मालवदे और अन्य कार्यकर्ताओं को मिलने राज ठाकरे और उनके बेटे आदित्य ठाकरे कांदिवली के ऑस्कर अस्पताल पहुंचे। हालांकि पुलिस में शिकायत दर्ज होने के बाद मारपीट में शामिल होने के आरोप में सात फेरीवालों को गिरफ्तार कर सभी हॉकर्स के खिलाफ आईपीसी की धारा 307 (हत्या की कोशिश) के तहत मामला दर्ज किया गया है। साथ ही कांग्रेस नेता संजय निरुपम पर बिना इजाजत सभा करने और फेरीवालों को भड़काने को लेकर एफआईआर दर्ज की गई है।

मनसे ने इस मामले में कांग्रेस नेता संजय निरुपम पर फेरीवालों को हिंसा के लिए उकसाने का आरोप लगाया है। दरअसल, एलफिंस्टन रोड रेलवे स्टेशन पुल पर हुए हादसे के बाद से ही मनसे ने रेलवे स्टेशन परिसरों पर कब्जा करने वाले फेरीवालों के खिलाफ आक्रामक रुख अपनाया है। उसके कार्यकर्ता 15 अक्टूबर से अवैध फेरीवालों रेलवे परिसरों से हटा रहे हैं।

इसी तरह का अभियान मनसे ने शनिवार को मलाड में चलाया। मनसे के सुशांत मालावाडे और अन्य कार्यकर्ताओं ने रेलवे स्टेशन के आसपास के इलाके से फेरीवालों को हटाना शुरू किया। इसके विरोध में फेरीवाले इकट्ठा हो गए और उन्होंने मनसे कार्यकर्ताओं पर हमला बोल दिया।

दरअसल यह पूरा विवाद तब शुरू हुआ जब मुंबई कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष संजय निरुपम फेरीवालों से मिलने गये थे। फेरीवालों के भेंट के दौरान संजय निरुपम ने एमएनएस और भाजपा को ललकारते हुए कहा, खुद को बचाने के लिए अगर कानून हाथ में लेना पड़े तो लो, लेकिन गुंडों से मार मत खाओ। फेरीवाले मनसे के किसी भी आघात का बदला लेने के लिए पूरी तरह सक्षम हैं।