MNS ने मेट्रो स्टेशन काे चीनी कंपनी का नाम देने से किया विरोध

मुंबई: अंधेरी के वेस्टर्न हाईवे के मेट्रो स्टेशन का नाम बदलने के बाद अब रिलायंस मेट्रो ने घाटकोपर का नाम चीनी मोबाइल कंपनी के हवाले कर दिया है। यह बात महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) को नागवार लगी है। पार्टी ने तीन दिन के भीतर स्टेशन के नाम से मोबाइल कंपनी का नाम हटाने की चेतावनी दी है।

बता दे , महानगर में मेट्रो रेल सेवा का संचालन कर रही निजी कंपनी पैसे लेकर कंपनियों के नाम पर स्टेशनों का नामकरण कर रही है। मेट्रो रेल सेवा चलाने वाली कंपनी रिलायंस मेट्रो ने घाटकोपर मेट्रो स्टेशन का नाम विवो घाटकोपर कर दिया है। इसके लिए इस चीनी कंपनी से मोटी रकम वसूली गई है। इसके खिलाफ मनसे कार्यकर्ताओं ने घोटकोपर स्टेशन पर हस्ताक्षर मुहिम शुरू की है।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, पार्टी ने रिलायंस मेट्रो को चेतावनी दी है कि तीन दिनों में नाम स्टेशन के नामपट्‌ट से मोबाइल कंपनी का नाम नहीं हटा तो नहीं तो हम खुद हटा देंगे। मनसे कार्यकर्ताओं का कहना है कि एक तरफ देश में चीनी वस्तुओं का बहिष्कार हो रहा है तो दूसरी तरफ आर्थिक लाभ के लिए एक स्टेशन का नाम ही चीनी मोबाइल कंपनी के नाम कर दिया जा रहा है। हम यह बर्दाश्त नहीं करेंगे। इसके पहले रिलायंस मेट्रो ने अंधेरी के वेस्टर्न हाईवे मेट्रो स्टेशन का नाम मैजिक ब्रिक कर दिया था।