हार्दिक पटेल ने कांग्रेस को लेकर अपनाया सख्त रुख, कहा-3 नवंबर तक बताओ कैसे दोगे आरक्षण

Hardik-Patel-1

अहमदाबाद : पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने होटल ताज में राहुल गांधी से गुप्त मुलाकात को लेकर उठे विवाद के बाद कांग्रेस को लेकर सख्त रुख अपनाया है। हार्दिक ने पाटीदारों को संविधान के तहत आरक्षण देने पर कांग्रेस से रुख स्पष्ट करने की मांग के साथ आगामी 3 नवंबर को सूरत में कांग्रेस की यात्रा में हंगामा करने की चेतावनी दी है। कांग्रेस चाहती है हार्दिक भी अल्पेश की तरह बिना शर्त समर्थन कर दें, लेकिन हार्दिक कुछ शर्तें मनवाना चाहते हैं।

गुजरात में पाटीदार आरक्षण आंदोलन चला रहे पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने शनिवार को एक ट्वीट कर कहा है कि आगामी 3 नवंबर तक कांग्रेस पाटीदारों को संवैधानिक तरीके से आरक्षण देने के मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट करे। कांग्रेस अगर ऐसा नहीं करती है तो भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की सभा की तरह कांग्रेस की रैली व सभा में भी ऐसे ही हंगामे की चेतावनी दी गई है।

राहुल गांधी की पिछली गुजरात यात्रा के दौरान होटल ताज में उनसे व कांग्रेस प्रभारी अशोक गहलोत से हार्दिक की मुलाकात के सीसीटीवी फुटेज सार्वजनिक होने के बाद हार्दिक ने अचानक कांग्रेस को लेकर सख्त रुख अपनाया है।हार्दिक की कोई स्पष्ट राजनीतिक विचारधारा नहीं है और वह पाटीदारों को आरक्षण नहीं देने व पाटीदारों के दमन का बदला लेने के लिए गुजरात में भाजपा को हराना चाहते हैं। इसके लिए वह कभी एनसीपी तो कभी शिवसेना के करीब होने का आभास कराते हैं तो कभी कांग्रेस के पक्ष में दिखना चाहते हैं।

कांग्रेस चाहती है ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर की तरह हार्दिक पटेल बिना शर्त कांग्रेस का समर्थन कर दें, चूंकि उनके पास और कोई विकल्प नजर नहीं आता है इसलिए कांग्रेस कुछ समय ऐसे ही निकाल देना चाहती है। एक कांग्रेस नेता का यह भी कहना है कि राजनीति के खिलाडी शंकरसिंह वाघेला कांग्रेस से सौदेबाजी नहीं कर सके तो हार्दिक की बिसात ही क्या। कांग्रेस मानती है हार्दिक आदि युवा नेता जुनूनी हैं लेकिन राजनीतिक समझ में कांग्रेस उनसे आगे है।