समाज के सभी घटकों को प्रोत्साहन देने की सरकार की नीति – सुभाष देसाई

मुंबई: समाज के सभी घटकों के समग्र विकास पर राज्य सरकार ध्यान दे रही है और इस दिशा में प्रयासरत है। उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने कहा कि इस उद्देश्य से शुरू किए गए डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर अनुसूचित जाति जनजाति प्रोत्साहन योजना का 140 से अधिक उद्यमियों को लाभ हुआ है।

श्री देसाई ने कहा कि राज्य सरकारने दो वर्ष पहले डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की 125 वी जयंती के उपलक्ष्य में सामाजिक रूप से पिछड़े रह गए अनुसूचित जाति और अनुसूचित जन जाति के लोगों का औद्योगिक विकास करके उन्हें मुख्य धारा में लाने के उद्देश्य से ‘भारतरत्न डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर विशेष सामाजिक प्रोत्साहन योजना’ की घोषणा की थी। इस योजना के तहत राज्य के कुल 280 एमआईडीसी में। अनुसूचित जाति और अनुसूचित जन जाति के उद्यमियों के लिए 20 फीसदी भूखंड आरक्षित किया गया है। इसके अलावा उद्योग के विकास के लिए तैयार प्किए गए गाले उद्यमियों को दिए गए थे। उद्योग की स्थापना के बाद, एक विशेष रियायती टैरिफ पर बिजली दी गई है। इतना ही नहीं उधार लेने वाले उद्यमियों को ब्याज पर बड़ी मात्रा में सब्सिडी दी गई है। पूँजी स्पर्धा में में खड़े होने के लिए इस समाज के उद्यमियों को काफ़ी रियायत एवं प्रोत्साहन दिया जा रहा है।इसके चलते इस सरकार की योजना को अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है। दो वर्षों में, 140 अनुसूचित जाति समुदायों ने अपना खुद का व्यवसाय शुरू कर दिया है।

‘भारतरत्न डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर विशेष सामाजिक प्रोत्साहन योजना’

भारतरत्न डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर के नाम पर भारतरत्न डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर विशेष सामाजिक प्रोत्साहन योजना अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के लिए विशेष सामाजिक प्रोत्साहन योजना है।एकल स्वामित्व वाले अनुसूचित जाति / जनजाति के उद्यमियों की 100 फीसदी हिस्सेदारी है, साझेदारी घटक में अनुसूचित जाति / जनजाति के उद्यमियों का पूंजी में 100 प्रतिशत साझेदारी, सहकारी क्षेत्र सहकारी अधिनियम के तहत पंजीकृत संस्थानों में 100 प्रतिशत अनुसूचित / अनुसूचित जनजाति वर्ग के उद्यमियों या दोनों का समावेश हो, निजी या सहकारी सार्वजनिक लिमिटेड कंपनियों में घटक भागों या अनुसूचित जाति के लिए उद्यमियों के लिए श्रेणी में न्यूनतम 100 फ़ीसदी होने पर ही उसे पात्र माना जाएगा।

इस योजना का लाभ लेने या इसके बारे में अधिक जानकारी या योजना के बारे में मार्गदर्शन के लिए उद्योग निदेशालय मुंबई की वेबसाइट www.di.maharashtra.gov.in पर जाएँ या

महाप्रबंधक, जिला उद्योग केन्द्र से संपर्क करें।