इतिहास से सरदार पटेल के योगदान को भुलाने और मिटाने का किया गया प्रयास : नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती पर आयोजित रन फार यूनिटी कार्यक्रम में कहा कि “भारत विविधता से भरा देश है। एकता में अनेकता हमारी विशेषता है।” देश की आजादी के लिए सरदार पटेल ने अपना जीवन त्याग दिया। उन्‍होंने साम-दाम-दंड-भेद के इस्‍तेमाल से देश को रियासतों में बटने नहीं दिया, साथ ही उन्होंने राष्‍ट्र के एकीकरण में अहम भूमिका निभाई। नरेंद्र मोदी ने कहा कि इसके बावजूद आज की पीढ़ी को सरदार साहब ने इतिहास में किए योगदान को कम करके बताया जा रहा है।

इतिहास के पन्नों में से इस महापुरुष के योगदान को मिटाने का भरपूर प्रयास किया गया है। या फिर उनके योगदान को कमतर करके पेश करने की कोशिश की गई लेकिन इस देश की युवा पीढ़ी उनको इतिहास से ओझल करने के लिए तैयार नहीं है। इसलिए जब हम सत्‍ता में आए तो सरदार पटेल की जयंती पर रन फार यूनिटी मनाने का निश्‍चय किया गया।

इस संदर्भ में देश के पहले राष्‍ट्रपति राजेंद्र प्रसाद का हवाला देते हुए पीएम मोदी ने कहा कि उन्‍होंने कहा था आजाद सोचने और बोलने के लिए भारत नाम का देश आज उपलब्‍ध है। यह सरदार वल्‍लभ पटेल की दृष्टि, दृढ़ता और प्रशासनिक पकड़ के कारण ऐसा हो पाया है। ऐसा होने के बावजूद हम उनको भूल गए हैं। उन्होंने ने कहा कि इन शब्‍दों में देश के पहले राष्‍ट्रपति ने सरदार पटेल के संबंध में अपनी पीड़ा जाहिर की। आज भले ही किसी ने उनको भुलाने की भरसक कोशिश की हो लेकिन ऐसा संभव नहीं हो पाया।

पीएम मोदी ने युवाओं को राष्‍ट्रीय एकता और अखंडता की शपथ भी दिलाई। इंदिरा गांधी की पुण्‍यतिथि पर उनको भी पीएम नरेंद्र मोदी ने याद किया। इससे पहले गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मेजर ध्‍यान चंद नेशनल स्‍टेडियम में एक कार्यक्रम में हिस्‍सा लिया और वहां उपस्थित लोगों को संबोधित किया।