अगले साल चीनी (Sugar) उद्योग पर बड़ा संकट: शरद पवार

बारामती: वर्तमान में हर क्षेत्र की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं। इसी तरह अगले साल चीनी उद्योगपर बड़ा संकट आने वाला हैं। गन्ने का उत्पादन बहोत हुआ है लेकिन वैश्विक बाजार में उतार आया हैं। इसलिए राष्ट्रवादी प्रमुख शरद पवार ने भविष्वाणी की हैं कि अगले साल चीनी को 2500 रुपये से दर मिलेगा।

बारामती में कृषि विकास की ओर से आप्पासाहेब पवार कृषि और शिक्षा पुरस्कार का वितरण शरद पवार और पूर्व मंत्री बाळासाहेब थोरात ने किया। इस समय शरद पवार बोल रहे थे।

पवार ने कहा कि केंद्रीय सरकार द्वारा निर्धारित गन्ने की कीमत का भुगतान कारखाने भी नहीं कर पाएंगे। दूसरी ओर, शासकों को कृषि अर्थव्यवस्था को मजबूत करने पर ध्यान देने की जरूरत पवार ने जताई हैं।

विश्व में चीनी के उत्पादक देशो ने तुलना में अधिक चीनी का उत्पादन किया इसलिए वैश्विक बाजार में उतारा आया हैं। और उसका परिणाम भारतीय चीनी उद्योगों को भुगतना पड़ रहा हैं ऐसा पवार ने कहा।

इससे पहले भारत को आयातक देश के रूप में पहचाना जाता था। लेकिन किसानों और शोधकर्ताओं की सहायता से, हमारा देश निर्यातक बन गया है। इसलिए शरद पवार ने कहा कि इस स्थिति में शासकों ने कृषि अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने पर ध्यान देने की जरूरत है।