अहमदनगर जिले के विभाजन का रास्ता साफ ?

अहमदनगर : अहमदनगर जिले के विभाजन का रास्ता साफ होणे कि संभवना नजर आ राही है। जिला विभाजन के मुद्दे पर सरकार सकारात्मक है और सही समय पर उचित निर्णय लिया जायेगा ऐसा आश्वासन मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दिया है।

विधान परिषद के विपक्ष नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल और कार्य समिति के सदस्यों ने सह्याद्री गेस्ट हाउस पर मुख्यमंत्री से मुलाकात की। अहमदनगर महाराष्ट्र का सबसे बड़ा जिला है।

राज्य के कई जिलों को विभाजित करने की सरकार की कोशिश है। जिसके लिए एक समिति भी स्थापन की गई है और समिति का फैसला आने के बाद विभाजन का फैसला लिया जायेगा ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा।

अहमदनगर के विभाजन की मांग पिछले 25 सालों से है। प्रशासनिक कठिनाइयों को संभालने में मुश्किल होने के कारण यह मांग की जा रही है।

अहमदनगर जिला कार्य समिति ने भौगोलिक, आर्थिक और सामाजिक रूप से विभाजन क्यों होना चाहिए, इसका ज्ञापन मुख्यमंत्री को दिया है।

जिला विभाजन के दौरान कोई राजनीतिक हस्तक्षेप नहीं किया जाएगा। संगमनेर जिला समितिने एक प्रस्ताव दिया। संगमनेर जिला क्यों होना चाहिए इसके लिए डेड लाख लोगो के हस्ताक्षर की कॉपी और संगमनेर जिला कैसे उपयुक्त है इसका प्रेजेंटेशन भी दिया।

नगर जिला विभाजित होना चाहिए ऐसी लोगो को भावना है. आने वाले चुनावों से पहले अहमदनगर को विभाजित किया जाएगा ऐसा पालकमंत्री राम शिंदे कहा है।