हर महीने की 21 तारीख को योग दिन मनाएंगे – विनोद तावडे

मुंबई : संयुक्त राष्ट्रसंघ ने 21 जून यह दिन ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ के रूप में मनाने के लिए मंजूरी दी है और अब यह दिन ‘योग दिन’ के रूप में मनाया जाता है। महाराष्ट्र में भी स्कूल, महाविद्यालय में यह दिन ‘योग दिन’ के रूप में मनाते हुए हर महीने की 21 तारीख को योग के लिए स्वतंत्र समय रखने का विचार शालेय शिक्षा और क्रीडा मंत्री विनोद तावडे ने व्यक्त किया।

आज सुबह वीडियो कान्फन्सिंग के द्वारा श्री. तावडे ने राज्य के क्रीडा अधिकारी, शिक्षणाधिकारियों से संवाद साधा। इस दौरान शालेय शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव वंदना कृष्णा उपस्थित थी।

इस दौरान श्री. तावडे ने बताया कि हर साल 21 जून को योग दिन के रूप में मनाने के साथ ही हर महीने की 21 तारीख को स्कूल में योग दिन मनाया जाएँ और कम से कम आधा घंटे तक छात्रों को योग सिखाया जाए। महीने में अगर 21 तारीख को छुट्टी होगी तब उस तारीख के पहले या बाद में योग दिन मनाए। योग से छात्रों का व्यक्तिमत्व विकास होने के साथ-साथ वर्तमान में आवश्यक कुशलता एवं एकाग्रता बढ़ाने में मदद होगी। साथ ही इस छात्रों को योग का महत्व के बारे में बताना एवं उन्हें समझाना भी आवश्यक है।

योग दिन पर आयोजित कार्यक्रम के फोटो एक ही वेबसाइट पर उपलब्ध करें

राज्य में चलाए गए ‘मिशन वन मिलियन’ अभियान के समय के सभी फोटो एक ही वेबसाइट पर उपलब्ध किए गए थे। इसी तरह योग दिन के उपलक्ष्य में राज्य में होनेवाले कार्यक्रम के सभी फोटो एक ही वेबसाइट पर उपलब्ध किए जाएँ और इसके लिए स्वतंत्र वेबसाइट तैयार की जाएँ।

योग दिन सिर्फ 21 जून को ही मनाने से ही उसका उद्देश्य प्राप्त नहीं होगा। इसलिए इस दिन पर जिले में योग महोत्सव आयोजित करना और इस अवसर पर छात्रों को शामिल करना आवश्यक है। इससे इस साल 21 जून को योग दिन स्कूलों में किस तरह मनाया जाएगा, इसके लिए कौन-सा नियोजन किया गया है, इस संदर्भ की जानकारी 16 जून तक शिक्षा आयुक्त को दिये जाने की सूचना भी श्री. तावडे ने इस दौरान दी।