कठुआ गैंगरेप के विरोध में आधी रात को राहुल ने निकाला कैंडल मार्च

नई दिल्ली : कठुआ में 8 साल की बच्ची से दरिंदगी और उन्नाव में दुष्कर्म की घटनाओं के विरोध में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इंडिया गेट पर आधी रात को कैंडल मार्च निकाला। स दौरान कांग्रेस पार्टी ने सरकार पर बेटियों और महिलाओं की सुरक्षा को लेकर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है. मार्च में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ प्रियंका गांधी ने भी हिस्सा लिया।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी रात करीब सवा बारह बजे मार्च में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने कहा कि देश में एक के बाद एक महिलाओं और बच्चियों के साथ घटनाएं हो रही हैं। चाहे बात उन्नाव की हो या फिर कठुआ की हम महिलाओं के खिलाफ हो रही हिंसा के खिलाफ और इसके विरोध में ही यहां खड़े हैं। राहुल गांधी ने कहा कि यहां आम जनता, सभी पार्टी के लोग और महिलाएं खड़ी हैं। आज हिंदुस्तान की महिलाएं बाहर निकलने से डरने लगी हैं। यह कोई राजनीतिक मामला नहीं है, यह हमारी महिलाओं की सुरक्षा का मामला है। महिलाओं के खिलाफ जो अत्याचार हो रहे हैं उसके खिलाफ सरकार को कुछ करना चाहिए।

राहुल गांधी ने रात 9:39 पर ट्वीट किया- आधी रात को इंडिया गेट चलो। वे खुद रात 11.55 बजे मानसिंह रोड पर मार्च में शामिल हुए। 12 बजे इंडिया गेट पहुंचे। पुलिस ने राहुल को रोकने की कोशिश की लेकिन वे घेरा तोड़कर इंडिया गेट की तरफ बढ़ गए। इसके बाद वे कुछ देर रुके और कार्यकताओं के साथ जमीन पर बैठ गए।

राहुल के साथ प्रियंका, रॉबर्ट वाड्रा और उनके बच्चे भी थे। मौके पर ही पार्टी के कई बड़े नेता भी पहुंचे थे। इससे पहले से ही सैकड़ों की संख्या में आम लोग, कांग्रेस कार्यकर्ता और समर्थक भी इस मार्च में हिस्सा लेने मौजूद थे। रात करीब एक बजे राहुल वहां से लौट गए।इस मार्च में अशोक गहलोत, अहमद पटेल, अंबिका सोनी, दिग्विजय सिंह, रणदीप सिंह सूरजेवाला, आरपीएन सिंह अौर गुलाम नबी आजाद समेत कई कांग्रेस लीडर शामिल हुए।

राहुल के इंडिया गेट पहुंचने से पहले ही दि‍ल्ली के अलग-अलग हिस्सों से लोग यहां पहुंचने लगे थे। कई लोग अपने बच्चों को भी साथ लेकर पहुंचे थे। इंडिया गेट पर इतनी भीड़ दिखी कि 2012 में हुए निर्भया कांड की भी याद ताजा हो गई। वक्त भी इंडिया गेट पर लोग ऐसे ही इकट्ठा हुए थे। हालांकि, तब सत्ता में कांग्रेस थी और अब भाजपा है। इस मार्च में निर्भया के माता-पिता भी शामिल हुए।
बता दे कि, इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्नाव रेप मामले को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने के बाद आज कठुआ में नन्ही बच्ची से गैंगरेप और उसकी नृशंस हत्या को लेकर सवाल उठाए। उन्होंने जम्मू कश्मीर के कठुआ में आठ साल की एक बच्ची से बलात्कार और उसकी हत्या की घटना को ‘अकल्पनीय नृशंसता’ बताया।

राहुल गांधी ने हैरानी जताई कि कोई भी व्यक्ति दोषियों को बचाने की मांग कैसे कर सकता है? कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट किया, ‘‘उन्हें (अपराधियों को) सजा दिए बिना नहीं छोड़ना चाहिए।’’ राहुल ने इस अपराध को लेकर की जा रही राजनीति की भी आलोचना की। उन्होंने कहा, ‘‘इस तरह का पाप करने वाले दोषियों का कोई कैसे संरक्षण कर सकता है।’’

उन्होंने कहा कि किसी बच्चे के खिलाफ हिंसा मानवता के खिलाफ अपराध है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘‘हम लोग क्या हो गए हैं कि एक बेकसूर बच्ची से की गई ऐसी अकल्पनीय नृशंसता में हम राजनीतिक दखलंदाजी की इजाजत देंगे।’’

Facebook Comments