महाराष्ट्र में डिजिटल अर्थव्यवस्था के लिए बुनियादी सुविधाएँ उपलब्ध- मुख्यमंत्री

मुंबई: महाराष्ट्र में बड़े पैमाने पर निवेश करने का अपील करते हुए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि डिजिटल उद्योग व डिजिटल अर्थव्यवस्था में आजकल बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर पैदा हो रहे हैं। महाराष्ट्र ने डिजिटल अर्थव्यवस्था के लिए बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए प्रयास पहले ही शुरू कर दिया था। एयरपोर्ट, समृद्धि हाइवे, मेट्रो और सड़क के ज़रिए राज्य ने विश्वस्तरीय बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराया है।

मुख्यमंत्री सर्विस सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देने के लिए मुंबई में पहली बार आयोजित चौथे ‘ग्लोबल एक्जिबिशन ऑन सर्विसेस’ में आयोजित परिसंवाद में बोल रहे थे। सर्विस सेक्टर के इस वैश्विक आयोजन का उद्घाटन आज राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने किया।पर्यटन मंत्री जयकुमार रावल, भारतीय उद्योग महासंघ (सीआयआय) के अध्यक्ष चंद्रदीप बैनर्जी, स्पेनटा मीडिया के माणिक डावर, अपटेक के निनाद करपे आदि ने इस परिसंवाद में हिस्सा लिया।

मुख्यमंत्री श्री फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र की अर्थव्यवस्था ट्रिलियन डॉलर करने के लिए राज्य में रोड मैप तैयार कर लिया है। इस रोडमैप में सेवा क्षेत्र को बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाना होगी।

राज्य के सकल घरेलू उत्पादन में सेवा क्षेत्र की फ़िलहाल 49 फीसदी है जिसे हम 2025 तक 65 फीसदी तक ले जाएँगे। राज्य में बड़े पैमाने पर जनशक्ति उपलब्ध है। इसका उपयोग सेवा क्षेत्र में ठीक बेहतर ढंग से किया जाएगा। उद्योग के लिए विभिन्न नीतियों की घोषणा की गई है। महाराष्ट्र अपनी ‘फिनटेक’ (एफआईएनटीईसी) नीति घोषित करने वाला पहला राज्य है। महाराष्ट्र और मुंबई का भौगोलिक स्थान सभी प्रकार की सेवाएँ देने का एक प्रमुख केंद्र बन गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के युवा लोगों के पास नए विचार और आइडिया हैं। राज्य ने युवाओं की परिकल्पना को ताक़त देने के लिए स्टार्टअप नीति की घोषणा की है। राज्य सरकार देश के विकास में योगदान करने वाले लोगों की मदद करने का काम कर रही है। निजी विश्वविद्यालय स्थापित करने और शैक्षिक संस्थानों के प्रचार और विश्वविद्यालय की स्वायत्तता पर जोर देने के लिए एक कानून लागू किया गया है। जनशक्ति विकास का एक महत्वपूर्ण घटक है, इसलिए सरकार कौशल विकास में अधिक निवेश कर रही है।

मुख्यमंत्री श्री फडणवीस ने कहा, राज्य में लॉजिस्टिक सेक्टर (रसद क्षेत्र) का विकास तेजी से हो रहा है और मुंबई को बेहतरीन सेवा देने वाली राजधानी के रूप में स्थापित करने में ‘फिनटेक’ (एफआईएनटीईसी) नीति का महत्वपूर्ण योगदान है। हम उद्योग बिना किसी बाधा के करने पर बहुत अधिक ध्यान दे रहे हैं। इसके लिए ईज ऑफ डूइंग बिज़नेस पर ख़ास फ़ोकस है।ईज ऑफ डूइंग बिज़नेस के मामले में राज्य विश्व बैंक रैंकिंग में देश में पहले स्थान पर आया है। व्यवसाय करने के मामले में देश में महाराष्ट्र सबसे आगे है। महाराष्ट्र एक स्वतंत्र पब्लिक स्लाइड नीति रखने वाला देश का पहला राज्य है।

श्री फड़णवीस ने कहा कि लॉजिस्टिक के साथ 12 सेवा क्षेत्रों के लिए राज्य में इकोसिस्टिम तैयार किया गया है। सेवा क्षेत्रात बड़े पैमाने पर निवेश लाने के लिए राज्य सरकार हर संभव सहयोग कर रही है और निवेश में प्रतिभागी के रूप में सेवा क्षेत्र में भाग लेगी।

पर्यटन मंत्री श्री रावल ने कहा, बड़ा और विशाल समुद्री तट, विशाल जंगल, टाइगर रिजर्व जैसे स्थलों के चलते राज्य में पर्यटन बढ़ाने का ज़्यादा अवसर मिला। राज्य के ऐतिहासिक किलों का भी उपयोग पर्यटन विकास के लिए विरासत नीति तैयार नीति तैयार की जाएगी। पर्यटन विकास के लिए राज्य सरकार की मौजूदा नीति लचीली है और इसमें नए विचार शामिल किए जाएंगे। जल्द ही मनोरंजन क्षेत्र में विभिन्न मनोरंजन व्यवस्था के लिए एक सिंगल विंडोज़ योजना शुरू की जाएगी।