कोरेगाव भीमा के सभी मामले वापस लेंगे, मुख्यमंत्री ने की घोषणा

मुंबई: जनवरी में हुए भीमा कोरेगाव हिंसा के सभी मामले वापस लेने की घोषणा मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस ने विधान सभा में की हैं। मुख्यमंत्री ने कहा गंभीर मामलों से संबंधित निर्णय समिति तय करेगी और तीन महीने में पुलिस इस मामले पर रिपोर्ट देगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कोरेगांव भीमा प्रकरण में कुल ५८ मामले दर्ज किए गए हैं। और १६२ अपराधियों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा, घायलों में ६० पुलिस और ५३ लोग शामिल हैं।

“हिंसा की घटना के बाद, कुल १७ उत्पीड़न और ६०० से अधिक मामले दर्ज किए गए थे। ११९९ अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। और २ हजार ५३ व्यक्तियों पर प्रतिबंधात्मक करवाई की गई।

कितना नुकसान हुआ ?

भीम कोरेगांव हिंसा में,१३ करोड़ रुपये तक का नुकसान हुआ हैं। मुख्यमंत्री ने कुछ विशिष्ट आंकड़े प्रस्तुत किये इसमें, कोरेगांव-भीमा के स्थान पर ९ कोटि ४५ लाख ४९ हजार ९५ हजार रुपये का नुकसान हुआ हैं। और इसका मुआवजा दिया गया है। इनमें से एक करोड़ से अधिक दलित समुदाय, और ८५ लाख से अधिक मुस्लिम समुदाय का नुकसान हुआ हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा की राज्य सरकार इस मामले की पूरी भरपाई करेगी।

संभाजी भिडे-एकबोटे के के बारे में मुख्यमंत्री ने क्या कहा?

भीम कोरेगांव केस के जवाब में, मुख्यमंत्री ने संभाजी भिडे पर बयान देने से परहेज किया। हालांकि, मिलिंद एकबोटे पर तत्काल शिकायत दर्ज की, और फरार होने पर फ़ौरन तलाशी अभियान भी चलाया।

इस बीच, मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार संभाजी महाराज की समाधि को अपनी हिरासत में लेकर इसकी देखभाल करेगी।

इसके अलावा, मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया कि इस मामले में कोई भी आरोपी हो उसपर सख्त कार्रवाई की जाएगी।